अगर आपको आर्ट्स एंड क्राफ्ट का सामान खरीदना है, तो आर्ट्स एंड क्राफ्ट की दुकानों के अलावा हस्तशिल्प मेले में लगे स्टॉल से इन्हें लिया जा सकता है. लेकिन, अब सूबे के सभी जिला मुख्यालयों में स्थित डाकघरों से भी आर्ट्स एंड क्राफ्ट के सामान खरीद सकेंगे. इसको लेकर डाक विभाग ने कवायद शुरू करते हुए भारत सरकार की उपक्रम ट्राइफेड के साथ एग्रीमेंट किया है और अनुमति भी मिल गयी है.

छठ पूजा के बाद सबसे पहले पटना के जीपीओ कार्यालय से आर्ट्स एंड क्राफ्ट के सामान बिकने शुरू हो जायेंगे. इसके बाद धीरे-धीरे सूबे के सभी जिला मुख्यालय स्थित डाकघरों में आर्ट्स एंड क्राफ्ट के सामान बिकने शुरू हो जायेंगे.
कारीगरों से सीधे खरीदारी करेगा डाकघर : मिथिला पेंटिंग हो या फिर टिकुली आर्ट, एप्लिक वर्क और टेरा कोटा आदि से जुड़े कारीगरों से सीधे डाकघर समान की खरीदारी करेगा, ताकि कारीगरों को उचित मूल्य मिल सके.

इसके साथ ही डाक विभाग 10 प्रतिशत अतिरिक्त राशि लेकर संबंधित आर्ट्स एंड क्राफ्ट के समान बेचेंगे. सूबे के डाकघरों में सिर्फ सूबे के ही क्राफ्ट नहीं मिलेंगे, बल्कि देश के विभिन्न राज्यों के अलग-अलग क्राफ्ट भी बेचे जायेंगे.
पूर्वी प्रक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल अनिल कुमार ने कहा िक आर्ट्स एंड क्राफ्ट से जुड़े कारीगरों को उचित मूल्य नहीं मिल पर रहा, पर बिचौलिये पैसा कमा रहे थे. अब डाक विभाग ने ट्राइफेड के साथ एग्रीमेंट किया है.

इसके अनुसार डाकघर आर्ट्स एंड क्राफ्ट के समान बेचेगा. इस योजना के तहत गांव-गांव के कारीगरों को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ उचित मूल्य भी दिया जायेगा.

Subscribe us on whatsapp