Advertising

मधुबनी। युवा दिवस यानी स्वामी विवेकानंद की जयंती पर शहर के विभिन्न हिस्सों में विविध कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। स्वामी विवेकानंद की जयंती पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद नगर इकाई के तत्वावधान में स्थानीय गंगासागर चौक स्थित रत्नेश श्रीवास्तव की अध्यक्षता में विचार गोष्ठी हुई। इसमें वक्ताओं ने कहा कि स्वामी विवेकानंद का विचार आज भी प्रासंगिक है। स्वामी विवेकानंद अपना जीवन मानवता की रक्षा में लगा दिया। सकल विश्व में भारत की महत्ता का झंडा लहरा दिया। स्वामी विवेकानंद सबों के लिए समान शिक्षा के पक्षधर थे। संगोष्ठी में प्रो. आदित्य लाल दास, कलानंद झा, अमरेश श्रीवास्तव, मिथुन कुमार गुप्ता, मोनू कुमार, प्रो. जीसी झा, पंकज कुमार, पुनित कुमार झा, मदन श्रीवास्तव, सुमन ठाकुर, गोपाल झा, बबलू श्रीवास्तव, दीवेश कुमार, दुर्गानंद झा, अवधेश ठाकुर सहित अन्य ने हिस्सा लिया।

वहीं स्थानीय विवेकानंद मिशन विद्यापीठ में विवेकानंद जयंती पर विद्यालय स्थित स्वामी जी के प्रतिमा पर पुष्प-माला अर्पित किया गया। मौके पर बच्चों को संबोधित करते हुए विद्यालय के निदेशक श्रवण पूर्वे ने कहा कि स्वामी जी के जीवनसे बच्चों में संस्कार और संस्कृति का गहरा प्रभाव पड़ता है। स्वामी विवेकानंद वेदान्त के विख्यात और प्रभावशाली अध्यात्मिक गुरु थे। उन्होंने शिकागो में विश्व धर्म महासभा में भारत कि ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था। विवेकानंद मिशन विद्यापीठ का यह सौभाग्य है कि स्वामी जी के पद चिन्हों पर चलने हेतु प्रेरित करती है। कार्यक्रम में प्रधानाचार्य अरविन्द रावत, रविन्द्र कुमार सहित अन्य ने हिस्सा लिया।

Advertising

नेहरू युवा केंद्र के तत्वावधान में स्वामी विवेकानंद जयंती मनाई गई। मौके पर वक्ताओं ने कहा कि विवेकानंद एक महान दार्शनिक, ¨चतक व मनीषी थे। जिनके विचारों से विश्व संस्कृति समृद्ध हुआ। इसमें नरेन्द्र कुमार ¨सह, सुनील चौधरी, कुदंन कुमार ¨सह, शंभू ठाकुर, सुहैल जफर, ललित कुमार झा, भोलेनाथ झा, रामसुन्दर यादव, अमित कुमार, प्रमोद कुमार, रोहित कुमार, पूजा कुमारी, अश्विनी कुमार आदि उपस्थित थे।

इधर, भारतीय जनता युवा मोर्चा नगर इकाई के तत्वावधान में स्थानीय होटल वाटिका में अमरजीत कुमार की अध्यक्षता में युवा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि स्वामी जी के जीवन से लोगों के संस्कार और संस्कृति का गहरा प्रभाव पड़ता है। अपनी तेज व ओजस्वी वाणी की बदौलत दुनिया में भारतीय आध्यात्म का डंका बजाने वाले स्वामी विवेकानंद का आदर्श युवाओं के लिए अनुकरणीय है। स्वामी जी ने समाज को नई दिशा दिखाई। उनके आदर्श को अपनाने के लिए युवाओं को साकारात्मक सोच बढ़ाना होगा। कार्यक्रम में विधान पार्षद सुमन कुमार महासेठ, घनश्याम ठाकुर, गजेन्द्र झा, पंकज राठौर, श्रवण पूर्वे, रजनीश झा, जन्मेजय कुमार ¨सह, विकास कुमार, मनोज कुमार मुन्ना, विक्की पूर्वे, अमीत साह, शंकर झा, विश्वजीत कुमार, कृष्णा महासेठ, विष्णु राउत, दीपक कारक, विकास राउत, विवेक आनंद, इन्द्रदेव कुमार सहित अन्य ने हिस्सा लिया।

स्वामी विवेकानंद जयंती पर शहर के इंडियन इंस्टीटयूट आफ टेक्नीकल स्किल्स के स्थानीय सेंटर पर डायरेक्टर अनु झा की अध्यक्षता में संगोष्ठी हुई। संगोष्ठी को संबोधित करते हुए इंडियन इंटीट्यूट ऑ़फ कम्युनिकेशन स्किल्स के डायरेक्टर रणधीर झा ने कहा कि स्वामी विवेकानंद का व्यक्तित्व देश के युवाओं को प्रेरणा देता है। स्वामी विवेकानंद को दुनिया भर में भारतीय आध्यात्म और ¨हदुत्व के प्रतिनिधित्व के रूप में देखा जाता है। संगोष्ठी में शंभू वर्मा, अनामिका सिन्हा, सपना मिश्रा, सुलोचना झा, सपना रानी, अजीत कुमार ¨सह, विक्रम सिन्हा, प्रशांत झा, संगीता कुमारी, रोशन कुमार झा सहित अन्य ने हिस्सा लिया। वहीं शहर के गांधी चौक स्थित यूनिवर्स को¨चग सेन्टर पर स्वामी विवेकानंद जयंती मनाई गई। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बबलू राउत, राजकुमार प्रसाद ने कहा कि व्यक्तित्व एवं कृतित्व के धनी स्वामी जी के आदर्श और सिद्धान्त से प्रेरणा लेकर लोगों को अपना जीवन समाज कल्याण में लगाना चाहिए।

स्थानीय जेएमडीपीएल महिला कालेज में निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में ब्रजकिशोर भंडारी सहित अन्य हिस्सा लिया। इधर भारत स्काउट गाइड के जिला कार्यालय में स्वामी विवेकानंद जयंती मनाई गई। कार्यक्रम डीटीओ सुजीत कुमार, प्रभात कुमार, मुन्ना ठाकुर सहित अन्य ने हिस्सा लिया।

Advertising

Subscribe us on whatsapp