अररिया (अल्लामा ग़ज़ाली):मंगलवार को बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष जाफर रहमानी सहित अन्य लोगों ने संविधान बचाओ न्याय यात्रा पर आये तेजस्वी यादव से होटल में मिलकर शिष्टमंडल ने हाईकोर्ट का न्यायदेश समान काम -समान वेतन को लागू करने एवं उच्चतम न्यायालय में दायर एसएलपी को वापस लेने के लिए विधानसभा में दबाव बनाने को कहा था. इस पर तेजस्वी यादव ने आश्वासन दिया था कि इस मामले को आने वाले सत्र में उठाया जायेगा.

बता दें कि बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के शिक्षकों को तेजस्वी से मुलाकात करना महंगा पड़ा. जिला शिक्षा पदाधिकारी अशोक कुमार मिश्र ने पत्रांक 238/18 में लिखा है कि आचार संहिता का उल्लंघन करने पर संघ के जिलाध्यक्ष समेत अन्य शिक्षकों को 24 घंटे के भीतर स्पष्टीकरण देने को कहा गया है. डीईओ के पत्रांक के मुताबिक उस अवधि में जिलाध्यक्ष जाफर रहमानी के अलावा शिष्टमंडल में प्रशांत सिंह, रमेश सिंह, आलोक राज,आमोद कुमार, कुंदन कुमार, संजय रजक, रजनीश कुमार, मो. जमाल,मो. मसऊद, मो. यहया, तारिक मंसूर, आफताब फिरोज, फिरोज आलम, किशोर कुमार, मो. इसा, मोहम्मद शाहजहां संघ के अन्य साथी विद्यालय से अनुपस्थित थे.

विद्यालय से अनुपस्थित रहने के आरोप में उक्त शिक्षकों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी. जिलाध्यक्ष को निर्देश दिया गया है कि यदि 24 घंटे के भीतर स्पष्टीकरण नहीं दिया जाता है तो आदर्श आचार संहिता उल्लंघन करने के आरोप में सख्त कानूनी कार्रवाई की जायेगी. जिलाध्यक्ष श्री जाफर रहमानी का कहना है कि अबतक कोई पत्र प्राप्त नहीं हुआ है. उन्होंने कहा इस विषय में मुझे कोई जानकारी नहीं है.

Subscribe us on whatsapp