कैंसर जैसी घातक बीमारी को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे 14 फरवरी 2018,बुधवार को पटना में टाटा ट्रस्ट के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक करेंगे। बैठक ‘राज्य अतिथि गृह’ में प्रातः 9:30 बजे होगी  जिसमें बिहार राज्य में कैंसर नियंत्रण हेतु एक नए मॉडल को अपनाते हुए प्रभावी उपाय को कार्यान्वित करने पर विचार होना है। इसमें राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय, बिहार सरकार के प्रधान मुख्यसचिव और स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव भी उपस्थित रहेंगे।
केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे की पहल से टाटा ट्रस्ट के साथ पूर्व में हुई बैठक के बाद ट्रस्ट ने बिहार में पहले से जारी कैंसर नियंत्रण चिकित्सा व्यवस्था का व्यापक अध्ययन किया और इसमें सुधार हेतु एक पत्र तैयार किया है। बैठक में इसी पर और राज्य में नए मॉडल ‘विकसित चिकित्सा व्यवस्था’ के कार्यान्वयन पर विचार और निर्णय लिया जाना है।


इस बैठक में मुख्य रूप से बिहार में कैंसर नियंत्रण हेतु नए मॉडल को अपनाने की बात है। जिसमे कैंसर के स्क्रीनिंग, डियग्नोसिस और चिकित्सा को गरीब मरीजों के घर के निकट तक पहुंचाने पर विशेष बल दिया गया है। टाटा ट्रस्ट और बिहार सरकार में इस संबंध में एक समझौता प्रस्तावित है जिसके अंतर्गत कैंसर के तकनीकी विशेषज्ञों को ट्रस्ट राज्य के जन स्वास्थ्य व्यवस्था के माध्यम से गरीब लोगों की चिकित्सा में सहयोग करेगा।इसके लिए राज्य सरकार को अपनी जन स्वास्थ्य व्यवस्था को अपग्रेड कर उच्च स्तरीय बनाना होगा।

इसमे उल्लेखनीय बात ये है कि एक त्रि-स्तरीय सुविधावों का नेटवर्क प्रस्तावित है।जिसमे सरकारी चिकित्सा महाविद्यालयों और जिला अस्पतालों की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। इसके कार्यान्वयन होने पर इलाज के खर्च में भारी कमी होगी और ज्यादा प्रभावी इलाज होगा जिससे कैंसर से मरने वालों की दर में बहुत कमी आएगी।विशेष बात यह है कि गरीब मरीजों की चिकित्सा उनके घर के पास ही करने की व्यवस्था बहाल हो जाएगी जिसके लिए अभी तक इन्हें दिल्ली, लखनऊ, चंडीगड़, मुम्बई आदि जगहों पर जाना पड़ता रहा है।

Subscribe us on whatsapp