बाल मजदूरी हमारे समाज का एक ऐसा विषय है जिसके बारे में हम सब जानते हैं लेकिन बात कोई नहीं करना चाहता। ऐसे कई सारे नियम कानून बनाए गए हैं जिसके हिसाब से बाल मजदूरी को सामाजिक और कानूनी अपराध की श्रेणी में रखा गया है।

हमारा बुद्धिजीवी वर्ग आए दिन इस पर चर्चा करता रहता है लेकिन धरातल पर इसका कोई उचित समाधान सामने नहीं आया है जिससे बाल मजदूरी पर लगाम लगाया जा सके। इसी विषय को उजागर करते हुए एक बार फिर प्रयुक्ति फिल्म्स लेकर आ रहे हैं अपनी नई शॉर्ट फिल्म “एक सोच” फिल्म में बड़ी ही खूबसूरती से बच्चों की मानसिकता और हमारे समाज का असली चेहरे पर रौशनी डाली गई है।

इस फिल्म का डायरेक्शन पटना के युवा निर्देशक चंदन कुमार ने किया है। चंदन इससे पहले भी कई शॉर्ट फिल्म का डायरेक्शन कर चुके हैं। इस कहानी को लिखा है कृतिका गुप्ता ने, फिल्म के सह निर्देशक हैं रितु अर्णव, मुख्य कलाकार हैं समीर और अभिषेक। फिल्म की सिनेमेटॉग्राफी अभय कुमार गुप्ता, सचिन के आर्या, कृष सुधांसु, अवधेश्वर दास और G3D स्टुडिया के द्वारा की गई है।

Subscribe us on whatsapp