जदयू और राजद की जुबानी कुश्ती बिहार के राजनीतिक अखाड़े में लगादात लड़ी जा रही है। इस कुश्ती में जदयू के प्रवक्ता, संजय सिंह, नीरज कुमार, राजीव रंजन और युवा जदयू के प्रदेश प्रवक्ता ओमप्रकाश सिंह सेतु जम कर दांवपेंच आजमा रहे हैं। वहीं राजद के तरफ से मोर्चा तेजस्वी यादव खुद सम्भाले हुए हैं, उनका साथ कभी कभी उनके बड़े भाई तेज प्रताप, कभी पिता लालू प्रसाद तो कभी शक्ति यादव, रघुवंश प्रसाद भी दो दो हाथ कर रहे हैं। इन सब मे शिवानंद तिवारी कोच की भूमिका में नए नए पैंतरे खोज खोज कर लाया रहे हैं।

ताजा मामला जदयू के नीरज कुमार की तरफ से उछाला गया है। न्याय यात्रा पर निकले नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव सरकार पर हमलावर हैं। जनसभा से लेकर ट्वीटर तक सरकार पर जम कर हमला कर रहे है। इस बीच सरकार कीतरफ से एमएलसी और प्रवक्ता नीरज कुमार फ्रंटफुट से हर गेंद को बाउंड्री पर करने का प्रयास कर रहे हैं। नीरज कुमार लगातार लालू प्रसाद और उनके परिवार पर आंकड़ों से वार कर रहे हैं। इस बार उन्होंने नीतीश सरकार के विकास और राजद के जंगलराज के बीच का आंकड़ा जारी कर उन्हें घेरने का प्रयास किया है। नीरज कहते हैं “दागी” युवराज तेजस्वी जी, आप हकीकत कब तक झुठलाइयेगा। अब आज का बिहार बदल चुका और लोग विकास से वाकिफ हो चुके हैं। चकाचक बिजली की रोशनी में बिहार फिर से “लालटेन” युग मे जाने वाला नहीं है। हो सके तो आप युवा हैं लालू नीति को छोड़ युवा नीति को अपना कर भविष्य सुधारने में लग जाइये। वर्ना भ्रष्टाचार के आरोप तो लगे ही हैं जीवन जेल बेल और अदालत में पिता की तरह गुज़र जाएगा।

नीरज कहते हैं कि ’दागी’ युवराज तेजस्वी जी आंकड़े गवाही दे रही हैं और ये आंकड़े उसी जगह के हैं जहां आप न्याय मांगने जनता के बीच गए हैं और जिन से आपके माता पिता ने अपने शासन में धोखा किया है,सताया है। राजद के शासनकाल की तुलना में नीतीश कुमार जी के काल में अररिया जिले में जहां डकैती के मामलों में 62 फीसदी की कमी आई है वहीं हत्या के मामलों में 15 प्रतिशत, दुष्कर्म के मामलों में नौ प्रतिशत, बैंक डकैती के मामलों में 40 फीसदी तथा सड़क डकैती के मामलों में 42 प्रतिशत की गिरावट आई है। यात्रा के क्रम में सड़कों में आया सुधार आपको भी नजर आ रहा होगा। नीतीश जी के कार्यकाल में अररिया जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में 2,895 किलोमीटर सड़क निर्माण की स्वीकृति प्रदान की गई है, जिसमें 2,276 किलोमीटर सड़क का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है। इसी तरह 2,095 किलोमीटर पथ प्रस्तावित हैं।

नीरज कुमार आगे कहते हैं ’दागी’ तेजस्वी जी, आप सत्ता जाने के बाद छटपटाहट में अपने पिता को भी भूल गए हैं। तेजस्वी जी, आखिर आपके पिता की गलती केवल यही नहीं थी, कि उन्होंने आपके लिए नाजायज तरीके से संपत्ति जमा की। परंतु क्या आपका दायित्व नहीं कि उन्हें जेल से बाहर लाने की कोशिश की जाए? पिता जेल में है और पुत्र अपनी नाजायज तरीके से अर्जित संपत्ति बचाने के लिए यात्रा कर रहा है। जनता सब समझती है और वक्त आने पर जवाब भी देती है। सच साब जानते हैं कि आप अपनी काबिलियत पर सत्ता में नहीं आये थे। नीतीश कुमार जी की मेहरबानी पर एक मौका मिला था जिसे आपने गंवा दिया।

नीरज कुमार इतने पर ही नहीं रुकते हैं आगे कहते हैं ’दागी’ तेजस्वी यादव जी अपनी कथित न्याय यात्रा के क्रम में तीन जिला होते हुए अररिया पहुंचें, परंतु अभी तक तथ्यों के साथ कोई बात आपने नहीं किया। जदयू इस सोच के साथ काम करता है कि सत्ता आएगी जाएगी पर लोगों का लोकतंत्र में भलाई होनी चाहिए। जदयू शासन के साथ अपनी सामाजिक दायित्व का भी भलीभांति निर्वहन करता है। ये समाज तोड़ने नहीं समाज को जोड़ने व उसके विकास की बात करता है। नीरज ने कहा कि याद कीजिए तेजस्वी जी,अब तक कहीं आपने विकास की चर्चा तक नहीं की है। क्योंकि आप भी जानते हैं कि लालू – राबड़ी शासन में विकास जमीन और नहीं जंगलराज का हुआ। आंकड़े सब कहानी खुद ब खुद कह देते हैं ये तो आप भी जानते हैं।

इसके साथ ही नीरज कुमार ने लालू-राबड़ी के शासन के कई खामियों को आंकड़ो के जरिये पेश किया। कहा ’दागी’ तेजस्वी जी, अररिया में भी राजद के विकास का रिकार्ड वर्तमान नीतीश कुमार के मुख्यमंत्रित्व काल के सामने कहीं नहीं ठहरता। अररिया जिले में नीतीश जी के शासनकाल में 10.19 करोड रुपये की लागत से 81 कब्रिस्तानों की घेरांबदी करवाई गई है, जबकि राजद के शासनकाल में तो केवल बेनामी संपत्ति बनाने का खेल चल रहा था। वहीं आप अल्पसंख्यकों के सबसे बड़े पैरोकार की दावेदारी और दम्भ भरते हैं। यही नहीं, अररिया जिले में अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं के शिक्षा के लिए विशेष ध्यान दिया गया। यहां 164 मदरसों (2015-16) में 47,947 छात्र-छात्राएं शिक्षाग्रहण कर रहे हैं। यहां के बच्चों में शिक्षा के प्रति दिलचस्पी जगाने के लिए अब तक 47,435 अल्पसंख्यक विद्यार्थियों को सरकार द्वारा वजीफा दिया जा चुका है। आंकड़े कभी झूठ नहीं बोलते आपका परिवार लोगों को डरा कर शासन पर जमा रहा हैं।

नीरज कुमा4 ने कहा कि ’दागी’ तेजस्वी जी, आप हकीकत को कब तक झुठलाइएगा। अब आज का बिहार बदल चुका है, अब यहां के लोग विकास से वाकिफ हो चुके हैं। अब यहां के लोग ’लालटेन’ नहीं बिजली की बातें करते हैं। राजद की सरकार ने इस अररिया जिले के लिए क्या किया था? यह भी बताइए। अररिया जिले में पिछड़ा-अतिपिछड़ा वर्ग के प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति के तहत 5,59,933 विद्यार्थियों को लाभ पहुंचाया जा चुका है। अभी तक आपकी माता जी श्रीमति राबड़ी देवी जी ने राजद के शासनकाल के मांगे गए कामकाज का हिसाब नहीं दिया। यही कारण है कि आपके अररिया दौरे के दौरान यह आंकड़ा आपको बताना पड़ रहा है। अब तथ्यों को स्वीकार करें।

तेजस्वी यादव को जम कर टारगेट करते हुए नीरज कुमार कहते हैं। अररिया में शिक्षा के क्षेत्र में बहुत व्यापक बदलाव हुआ है। जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते क्योंकि पढ़ाई लिखाई आपके समझ मे सिर्फ राजनीतिक रोटियां सेंकने का माध्यम है। अररिया जिले में 2005-06 में कुल स्कूलों की संख्या जहां 1,164 और शिक्षकों की संख्या 4,620 थी, वहीं 2015-16 में स्कूलों की संख्या बढ़कर 2,320 व शिक्षकों की संख्या 11,400 तक पहुंच गई। इसी तरह स्कूल जाने वाले बच्चों की संख्या जहां 2005-2006 में जहां 3,09,711 थी वहीं 2015-16 में इस संख्या में करीब 55 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई और यह संख्या बढकर 6,93,900 हो गई। यही नहीं, 36 मध्य विद्यालयों को माध्यमिक विद्यालय बनाया गया तथा 30 उत्क्रमिक उच्च विद्यालय बनाए गए हैं, इसके अलावे लगातार शिक्षा में गुणवत्ता और विकास के आरती नीतीश कुमार के सरकार और शिक्षा विभाग की प्रतिबद्धता दिखाई दे रही है।

नीरज कुमार के इस हमले के बाद अभी तक राजद के तरफ से प्रतिक्रिया नहीं आई है पर इतना तो निश्चित है कि नीरज कुमार ने एक बार फिर से आंकड़ों के आधार पर तेजस्वी यादव और उनके माता पिता के शासनकाल की खामियों को उजागर करते हुए पत्र लिख कर दावा किया है। आगे देखना होगा क्या नीरज के इस हमले पर राजद प्रतिक्रिया देता है या चुपासन का सहारा लेता है।

Subscribe us on whatsapp