डुमरांव:  बक्सर जिले के नंदन गांव में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले पर हमले के पीछ जेदयू विधायक का ही नाम सामने आ रहा है। सूत्रों की माने तो जदयू विधायक ददन पहलवान ने ही नीतीश के काफिले पर हमला करवाया था। हमले के बाद गठित जांच टीम ने डुमरांव के विधायक ददन सिंह यादव उर्फ ददन पहलवान और स्थानीय मुखिया राजीव कुमार को संदिग्ध बताया है। सुत्रों की माने तो मुखिया पर आज एफआईआर भी दर्ज हो सकता है।




जानकारी के मुताबिक पुलिस ने काफिले पर हमला करने वाली महिलाओं से पूछताछ की। महिलाओं ने बताया कि डुमरांव विधायक ददन पहलवान ने ही हमला करने के लिए कहा था। महिलाओं के बयान के आधार पर पुलिस जदयू विधायक ददन पहलवान और मुखिया राजीव कुमार को संदिग्ध मान रही है।  बताया जा रहा है कि जदयू विधायक ददन पहलवान इस क्षेत्र में यादवों के बीच काफी लोकप्रिय हैं। मगर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के जेल जाने के बाद से उनकी लोकप्रियता कम होती जा रही है। लालू यादव के जेल जाने के बाद से तेजस्वी यादव समेत उनका पूरा परिवार नीतीश कुमार पर आरोप लगा रहा है कि उन्होंने ही साजिश के तहत लालू यादव को जेल भिजवाया है। इसे बाद से ही यादव नीतीश कुमार से नाराज चल रहे हैं।



यही कारण है कि जदयू विधायक ददन पहलवान की भी अपने क्षेत्र में यादवों के बीच लोकप्रियता कम होने लगी। ददन पहलवान यादवों के बीच अपनी लोकप्रियता बढ़ाने के लिए मौके की तलाश में थे। बताया जा रहा है कि अपनी लोकप्रियता बढ़ाने के लिए ही उन्होंने नीतीश कुमार के काफिले पर हमला करवाया।

Posted by Amardeep Jha Gautam on Saturday, 13 January 2018

गौरतलब है कि शुक्रवार को बक्सर जिले के नंदन गांव में विकास समीक्षा यात्रा के लिए पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले पर जमकर पत्थरबाजी हुई थी, जिसमें कई गाड़ियों के शीशे टूट गए और सीएम को बमुश्किल वहां से सुरक्षित निकाला गया। सुरक्षाकर्मियों ने किसी तरह अपनी जान बचाई और गाड़ी लेकर भाग खड़े हुए। इस घटना में कई सुरक्षाकर्मी घायल हो गए।

Report- Apna Bihar

 

Subscribe us on whatsapp