न्यूज़ बिहार डेस्क: बिहार में पहली बार पटना मैराथन का आयोजन 17 दिसंबर को किया जा रहा है।राष्ट्रीय स्तर का पटना मैराथन की तैयारी को लेकर आयुक्त आनंद किशोर ने बुधवार को समीक्षा बैठक की। बैठक के बाद प्रेस वार्ता में आयुक्त ने बताया कि  इसमें देशभर के प्रतिभागी शामिल होंगे। राज्य के विभिन्न संस्थानों को मैराथन में शामिल होने के लिए पत्र भेजा जाएगा। गांधी मैदान में सम्मान समारोह का आयोजन होगा। पटना मैराथन तीन कैटेगरी में होगा।

पूरे मैराथन क्षेत्र को चार जोन में बांटने का निर्देश दिया गया है। जोन के हिसाब से ट्रैफिक प्लान, पुलिस बल और मजिस्ट्रेट की तैनाती की जाएगी। प्रत्येक जोन में एक वरीय मजिस्ट्रेट भी तैनात रहेंगे। मैराथन क्षेत्र में चार पेट्रोलिंग टीम की प्रतिनियुक्ति की जाएगी। ट्रैफिक एसपी को निर्देश दिया गया है कि अगले तीन दिनों में ट्रैफिक प्लान तैयार कर लें। साथ ही आम जनता के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की सूचना भी समय-समय पर देनी है। बैठक में पुलिस महानिरीक्षक नैय्यर हसनैन, पुलिस उप महानिरीक्षक राजेश कुमार, डीएम संजय कुमार अग्रवाल, नगर आयुक्त अभिषेक सिंह समेत अन्य वरीय अधिकारी मौजूद रहे।

रन फॉर बिहार थीम पर आयोजित मैराथन के दिन पटनावासियों को झांकियां भी देखने को मिलेंगी। आयुक्त ने बताया कि शराब बंदी, दहेज उन्मूलन और बाल विवाह को रोकने से संबंधित कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। मैराथन रूट में इंटरटेंमेंट जोन विकसित किया जाएगा। बिहार की कला संस्कृति के बारे में जानकारी देने के लिए फ्लैक्स, नुक्कड़ नाटक एवं झांकियां प्रस्तुत की जाएंगी। सांस्कृति कार्यक्रम का भी आयोजन होगा। आयुक्त ने पटनावासियों से अपील की है कि पटना स्मार्ट सिटी और बिहार के लिए मैराथन में शामिल होकर राज्य के लिए दौड़े।

मैराथन को सफल बनाने के लिए 400 वोलंटियर लगाए जाएंगे। इसमें जिला प्रशासन और आयोजक मिलकर यह व्यवस्था करेंगे। इन्हें पास जारी करने की जिम्मेवारी विधि व्यवस्था के एडीएम को दी गई है। इन्हें नोडल पदाधिकारी बनाया गया है। सुरक्षा के लिए मैराथन रूट पर सीसीटीवी लगाए जाएंगे।
एक तरफ जिला प्रशासन पटना मैराथन को सफल बनाने के लिए समीक्षा बैठक कर रहा है। वहीं मैराथन के आयोजक को यही पता नहीं है कि कितने लोगों ने इसके लिए शुल्क देकर रजिस्ट्रेशन कराया है। प्रेसवार्ता में जब आयोजक से यह पूछा गया कि कितना रजिस्ट्रेशन हुआ है तो इवेंट मैनेजर यशवंत ने बताया कि अभी इसकी जानकारी नहीं है। सब बेंगलुरू से हो रहा है। यहां तक पटना में होने वाले मैराथन के लिए स्थानीय स्तर पर रजिस्ट्रेशन कहां हो रहा है इसके बारे में भी नहीं बता पाए, जबकि एक दिसंबर के बाद निबंधन नहीं होगा।

नूतन राजधानी अंचल के कार्यपालक पदाधिकारी एक से 10 दिसंबर के बीच विशेष अभियान चलाकर गांधी मैदान में सफाई का काम करेंगे। गांधी मैदान का एक चौथाई हिस्से में होगा कार्यक्रम। साथ मैराथन के सभी रूट पर दस दिनों में सफाई की व्यवस्था करनी है। आयुक्त ने बताया कि पटना में आयोजन गौरव की बात है। मैराथन में भाग लेने वाले देशभर से आएंगे।
मैराथन के दिन 10 मेडिकल टीम और 10 एंबुलेंस की व्यवस्था स्वास्थ्य विभाग की ओर से रहेगी। सरकारी और निजी संस्थानों से 4 डॉक्टर, 8 नर्स, 20 फिजियो, 3 एंबुलेंस और एक रेस मेडिकल डायरेक्टर की व्यवस्था की जाएगी। आयुक्त ने नगर आयुक्त को निर्देश दिया है कि 12 मोबाइल शौचालय, 30 यूरिनल और 20 पोर्टेबल बायोटॉयलेट्स लगाए जाएं।

Subscribe us on whatsapp