अब से बैंक में खाता खुलवाने और ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने से पहले अंगदान करने की शपथ लेनी जरुरी है. इसके लिए शपथ पत्र भरकर देना होगा. इसके लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्रधिकरण (एनएचएआई) लोगों को जागरुक करेगा.
नोटों यानि नेशनल ऑर्गन एंड टिश्यू ट्रांसप्लांट ऑर्गनाइजेशन के अधिकारी डॉ सुरेश प्रधान ने बताया कि डॉक्टरों और ट्रांसपोर्ट मिनिस्ट्री द्वारा नोटो की मांग को स्वीकार कर लिया गया है. इसके अंतर्गत चेन्नई से लद्दाख तक करीब 10 लाख लोगों को इस कार्यक्रम के बारे में जागरुक किया जाना है.
सुरेश प्रधान ने चौंकाने वाली जानकारी देते हुए कहा है कि हर साल किडनी के 2 लाख जरूरतमंद मरीज रजिस्टर्ड हो रहे हैं. जबकि ब्रेन डेड और किडनी दान करने वाले मरीजों की संख्या सिर्फ डेढ़ हजार है. ऐसे में इस अंतर का भरना एक बड़ी चुनौती है.