राजद के युवा नेता माहताब आलम ने कहा है कि मकर संक्रांति पर बिहार की जनता लालू प्रसाद के दही चूडा के अवसर पर नही रहने से मायूसी में है। दही चूडा के दिन लालू प्रसाद ने दही का टीका लगा कर नीतीश कुमार को सत्ता बिना किसी शर्त सौंपा था, परंतु नीतीश कुमार कौरवी सेना से जा मिले।

महताब आलम ने आगे कहा कि आज बिहार की जनता को इस बात का पता चल गया है की नीतीश कुमार का जनता, जनादेश या विकास से कोई लेना देना नही है। लालू जी और उनके परिवार को साजिश के तहत फंसाया गया है। पर बिहार के युवा इन कौरवी सेना को बख़्शने वाले नहीं है। इन्हें बिहार की सीमा से निकाल बाहर करके ही दम लेंगे।

Posted by Amardeep Jha Gautam on Saturday, 13 January 2018

महताब ने कहा कि राजद के नेतृत्वकर्ता लालू प्रसाद गरीब गुरबा, दलित महादलित, पिछड़ा, अल्पसंख्यक और हर वर्ग के गरीब लोगों के अधिकार हक हुकूक की लड़ाई लड़ता है। लालू प्रसाद जी ने जो गरीबों के मुंह मे आवाज और निवाला दिया है, उसे हम इस कौरवी सेना को छिनने नहीं देंगे। पांडव (राजद) सत्य की लड़ाई लड़ रहा है जिसकी जीत निश्चित है। हमारा मकसद प्रदेश की जनता का अमन खुशहाली प्रेम और भाईचारा कायम करना है। माहताब ने कहा कि मेरा नारा है “नफरत मिटाएगा, लालटेन आएगा।” इसके लिए हम राजद के लोगों को लोकतंत्र की मालिक जनता का सहारा है। इस लोकतंत्र को बचाने के जंग में जनता हमारा साथ देगी यानी कि पांडवों की जीत निश्चित हीं होगी।

Subscribe us on whatsapp