“केकरो बोरा बोरा नून अ केकरो रोटियों पर न नून” न्यूज़ बिहार के कार्यालय के नम्बर पर संपर्क कर एक शख़्श ने उपरोक्त बातें कही। इसके बाद जब हमारे द्वारा पूछने पर की आप ये किस सन्दर्भ में कह रहे हैं। उसके बाद तो जो बात का सिलसिला शुरू हुआ उसके मजमून आप सभी से साझा किया जा रहा है।

बिहारभर में सांख्यिकी स्वयंसेवक अधिकारों के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इन्होंने हर तरह से अपनी बात सरकार तक पहुंचाने के लिए संघर्ष किया। लगातारा शांतिपूर्ण प्रदर्शन, धरना और ज्ञापन देने के बाद भी इनकी समस्या सरकार के द्वारा नही सुना जा रहा है। उसके बाद सांख्यकी सहायकों ने एक नायाब तरीका इज़ाद किया है। सांख्यकी सहायक राज्य भर में घूम घूम कर बिहार सरकार के मंत्रियों के कार्यक्रम में जाते हैं और उनके मंच पर जाकर अपनी मांगों का ज्ञापन देते हैं।


सांख्यकी स्वयंसेवक संघ के अध्यक्ष आदर्श ने न्यूज़ बिहार को बताया कि उनके संगठन द्वारा कई मंत्रियों को ज्ञापन सौंपा गया है। ज्ञापन में मांग पत्र के सबसे ऊपर लिखा है “केकरो बोरा बोरा नून अ केकरो रोटियों पर न नून” बिहार सरकार के मंत्री योजना एवं विकास विभाग, ललन सिंह भागलपुर के बांका में एक कार्यक्रम में आये हुए थे। सांख्यिकी स्वयंसेवक के जिला अध्यक्ष श्री आदर्श व अन्य मंत्री ललन सिंह के मंच पर जा उन्हें अपना ज्ञापन सौंपा। इसके साथ ही अध्यक्ष आदर्श ने मंत्री महोदय को बताया कि हमलोगों पर दया कीजिए हमलोग आप ही के भरोसे है। मंत्री महोदय ने आदर्श की बात गंभीरता से सुनते हुए ज्ञापन को पूरा पढ़कर मुस्कुराए एवं आदर्श को देखते हुए मुस्कुराते हुए बोले ठीक है ठीक है।
इस तरह से सांख्यकी सहायकों के द्वारा यह अभियान पूरे बिहार में चलया जाएगा। इनका कहना है कि जब तक इनकी मांगे पूरी नही हो जाती तब तक ये हर मंत्री के कार्यक्रम में पहुंच कर अपनी मांग से जुड़ा ज्ञापन देते रहेंगे। उसके साथ ही सांख्यकी सहायक ने न्यूज़ बिहार को बताया कि ये कोई लड़ाई नही अपने अधिकार के लिए शांतिपूर्ण संघर्ष है। यह तब तक जारी रहेगा जब तक हम लोग को रोटी पर नमक ना मिल जाए।

Subscribe us on whatsapp