पटना, न्यूज़ बिहार डेस्क : सोशल मीडिया में बड़ी तेजी से खबर आ गई है। बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से डॉक्टर अशोक चौधरी को मुक्त कर दिया गया है। यह खबर बिहार कांग्रेस के  दलित सेल के पूर्व अध्यक्ष नागेंद्र कुमार विकल के फेसबुक पोस्ट से वायरल हुई।

आपको बता दें नागेंद्र कुमार विकल ने अपने फेसबुक वॉल पर एक चिट्ठी पोस्ट की जिसमें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के जनरल सेक्रेटरी जनार्दन द्विवेदी का हस्ताक्षर है। पत्र में लिखा गया है कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने स्वीकृति दी है कि निम्नलिखित व्यक्ति तत्काल प्रभाव से बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी होंगे।

यह पत्र दिनांक 19 सितंबर 2017 अर्थात आज ही के दिन निर्गत की गई है। इसमें कुल चार व्यक्तियों के नाम की चर्चा है। 1)- श्री अखिलेश सिंह 2)- मदन मोहन झा 3)- शकील उज्ज़ामन अंसारी 4)- श्री अशोक राम इस पत्र के बाद बिहार के राजनीतिक हल्के में चर्चा शुरू हो गई।

आपको बता दें कि यह एक बिल्कुल ही फर्जी पटे है जिसके पुष्टि कांग्रेस के कई नेताओं ने किया। इसके साथ ही यह बात भी नेताओं ने कही की पूरी तरह से वर्तमान अध्यक्ष अशोक चौधरी के विरुद्ध दुष्प्रचार करने वालों की बेचैनी है। ये वही लोग हैं जो कांग्रेस को बदनाम करने की गुटबाजी में लगे रहते हैं। इनके इन्हीं सब करतूतों के कारण कांग्रेस को बदनामी झेलनी पड़ती है।

Subscribe us on whatsapp