पटना, न्यूज़ बिहार डेस्क : राजद को मिल रही बुरी खबरों के बीच टूट की सूचना और परेशान करने वाली है। सियासी गलियारे में राष्ट्रीय जनता दल में बगावत और टूट की खबर आ रही है। एक विधायक ने मोर्चा खोल विरोध का बिगुल फूंक दिया है। नीतीश कुमार का गुणगान करते हुए और भी कई विधायको के साथ होने की बात कह रहे हैं।

आपको बता दें कि विधायक का इस तरह से बागी होना और निटीएह कुमार का गुणगान करना कई सवालों को जन्म दे रहा है। जानकार बताते हैं कि इस तरह की बात से यह प्रतीत होता है की बिहार की राजनीति में कुछ और भी बड़ा उलट फेर लोकसभा चुनाव तक देखने को मिल सकता है। चर्चा छिड़ गई है कि क्या राजद और लालू प्रसाद के लिए यह खतरे की घंटी है ? क्या पार्टी के भीतर अंतर्कलह है ? या फिर राजद को तोड़ कर एक नई सियासी समीकरण गढ़ने की कवायद हो रही है ?

इस तरह बगावत से राजद और उनकी पार्टी लालू को कितना हानि हो एकता है? पार्टी मव बगावत करने के पीछे किस तरह की लॉबिंग हो रही है? इससे बिहार की राजनीतिक सेहत पर कितना असर पड़ेगा? क्या जदयू आएक बार फिर से राजद को तोड़ अपनी शक्ति और मजबूत करना चाहता है? चर्चा तो यहां तक शुरू हो गई है कि नीतीश कुमार एनडीए के साथ जा कर खुश नहीं हैं। ऐसे में राजद हो या कांग्रेस टूटता है तो उसका फायदा कहीं न कहीं जदयू को होना है। इसके साथ ही विरोध करने वाले बार बार नीतीश कुमार का गुणगान कर रहे हैं। इससे ऐसा प्रतीत होता है कि टूटने बाद ये नीतीश कुमार के साथ जुड़ सकते हैं।

आपको बता दें कि राजद के विधायक महेश्वर यादव हैं जिन्होंने सिर्फ पार्टी के खिलाफ हूंकार ही नही भरा है, बल्कि ये कहकर लालू कुनबे में यह हलचल मचा दिया कि उनके साथ पार्टी के भीतर कई और ऐसे विधायक हैं जो लालू की नीतियों के खिलाफ हैं। उनके इस तरह के आचरण से आहत राजद अनुशासनिक इकाई विधायक के खिलाफ कार्रवाई करने की तैयारी में है। इस तरह की घटनाएं विपक्षी दल के लिए चुटकी लेने का होता है। जेडीयू कैसे चुके राजद पर तंज कसते हुए कहना है कि राजद की सेहत खराब होनेवाली है। इस बगावत से राजद पर क्या असर पड़ने वाला है, यह तो वक्त बताएगा पर जिस तरह संकट के दौर से लालू प्रसाद और राजद गुज़र रहा है। चिंता को बढ़ाने वाला कारण जरूर बनेगा इस तरह के विरोध का मुखर होना।

Subscribe us on whatsapp