दही-चूड़ा में छोड़ देते तो लोगों के साथ खाते आपको भी बुलाते, लोग निआसारा हो जाएंगे। उक्त बातें कल लालू प्रसाद ने जज से दही-चूड़ा पर मोहलत देने की बात कही।  चारा घोटाला मामले में रांची के बिरसा मुंडा जेल में बंद लालू प्रसाद की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं एक मामले में उन्हें साढ़े तीन साल की सजा हुई है जबकि एक अन्य मामले में 5 साल की सजा के बाद बेल पर चल रहे हैं। इन सबके अलावा एक और मामला है जिसकी सुनवाई कल पूरी हुई इस मामले में 24 जनवरी को फैसला सुनाया जाएगा। इस बीच सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एस एन प्रसाद की अदालत में कल सुनवाई पूरी कर ली गई जहां अपनी आदत के अनुसार लालू प्रसाद ने जज से कहा सर दही चूड़ा के का कोई मोहलत मिलेगा।”

सूत्रों के अनुसार, लालू प्रसाद के इस सवाल के जवाब में जज ने कहा कि उनके लिए दही चूड़ा की व्यवस्था यहीं कर दी जाएगी, आपको कितना दही चाहिए? इस पर लालू प्रसाद ने कहा कि दही-चूड़ा का विभाग तो यादवों का है और रिहा होकर जाते तो उन्हें भी खाने के लिए बुलाते। हर साल बिहार के लोगों के साथ दही चूड़ा खिलाते और खाते आये हैं। लोग निआसारा हो जाएंगे अगर दही चूड़ा साथे नही खाये तो।

खबरों के मुताबक लालू प्रसाद ने जज से कहा कि एक अउरी दिक्कत है हजूर जेल अधीक्षक सप्ताह में एक ही दिन किसी से मिलने देते हैं, वह भी मात्र तीन व्यक्ति से ही मिल सकते हैं। जेल में अधिक लोगों के मिलने वाला इंतजाम कीजिए न हुजूर। लोग दूर दूर से आते हैं और नहीं मिल पाते इसका दुख हमें और उन्हें होता है। इस पर जज ने कहा की सिविल कोर्ट में कर दें क्या? मिलने के लिए ही तो कोर्ट बुलाते हैं। जेल मैनुअल बदलने का पावर तो विधायिका का है, वही क़ानून बनाती है।

आगे इस जज एवं लालू प्रसाद के बीच में जो संवाद हुआ, जिसे सूत्र बता थे हैं की जज ने कहा कि प्रशासन के लोगों ने फ़ोन कर कहा था कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए कीजिए, लेकिन हम ही आपलोगों को यहां बुलाते हैं। इस पर लालू बोले कि तो एक और मामला है न सर, देख लीजिएगा उस पर भी तीन साल ही सज़ा कीजिएगा, बेल मिल जाएगी। बाक़ी का फ़ैसला भी जल्दी कर दीजिए सर। इस पर जज ने कहा कि हमने सज़ा के लिए लिमिट बनाया था। हम जजमेंट सज़ा लिखकर नहीं रखते हैं। ऐसा नहीं की माइंड में तीन कटेगरी बनाकर रखा हुआ है जिसमें से कोई एक सज़ा सुना दिया जाए। फ़ैसला सबूत गवाह के आधार पर कानून के अनुसार होता है।

लालू प्रसाद चाहे जिस परिस्थिति में रहे अपने बयान और कुछ अलग तरह की बातों के लिए हमेशा सुर्खियों में रहते हैं चारा मामले में एक सुनवाई के दौरान जज के सामने भी उन्होंने अपने ही अंदाज में बातें की और अपना पक्ष रखा आगे देखना होगा कि इस मामले में 24 तारीख को आने वाला लालू प्रसाद पर फैसला क्या होता है जुड़े रहिए न्यूज बिहार के साथ हम आपको हर उस खबर से बाख़बर रखते हैं जिनसे आप का सीधा सरोकार है।

Subscribe us on whatsapp