बिहार में अब कोई भी घर बिजली के बिना नहीं रहेगा। सभी टोले और बसावटों में आने वाले अप्रैल तक बिजली आपूर्ति सुनिश्चित होगी। इस बात को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया। अधिवेशन भवन में बिजली से संबंधित 3030.52 करोड़ की योजनाओं का उद्घाटन लोकार्पण और शिलान्यास करते हुए नीतीश कुमार ने उक्त बातें बताई।

आपको बता दें कि बिजली आपूर्ति को लेकर काफी समय से केंद्र और राज्य सरकार के बीच श्रेय की होड़ लगी हुई है। इस श्रेय की होड़ के साथ साथ बिहार में बिजली व्यवस्था को सुदृढ़ करने में सरकार लगी हुई थी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिजली से संबंधित योजनाओं की समीक्षा लगातारा करते रहे हैं। उनके प्रयास का परिणाम अब सामने दिखने लगा है, कोई भी घर बिजली के बिना नहीं रहेगा। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा बिजली के हर पोल पर स्थानीय पुलिस और मध निषेध विभाग के नंबर लिखे हुए होंगे। इससे गड़बड़ी करने वालों की सूचना तुरंत लोग विभागीय अधिकारियों को दे सकेंगे। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने शराबबंदी, दहेज बंदी और बाल विवाह को लेकर स्लोगन भी लिखे जाने की बात कही।

हर घर बिजली की योजना पर चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सात निश्चय के तहत 1800 करोड़ से सबके घरों में बिजली पहुंचाई जाएगी। इसी तर्ज पर केंद्र के सौभाग्य योजना शुरू किये जाने से राज्य सरकार के खर्च में कमी आएगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हर एक व्यक्ति बिजली का कनेक्शन ले सकता है। अक्षय ऊर्जा को प्रोत्साहित किया जाएगा इस पर भी मुख्यमंत्री ने जोर दिया।

अपने संबोधन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि प्रकाश पर्व के दौरान क्षण भर के लिए भी बिजली गुल नहीं हुई। नीतीश कुमार ने इस बात को रखते हुए कहा कि यह उस स्थिति में सफल हुआ जब मुख्यमंत्री आवास में भी यदा-कदा बिजली चली जाती है। पर प्रकाश पर्व और प्रकाश पर्व के शुक्राना समारोह के दौरान बिजली व्यवस्था निर्यात गति से बहाल रही, यह बहुत ही सराहनीय है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह भी कहा कि वादे के मुताबिक हर घर को बिजली मुहैया कराने का लक्ष्य पूरा करने पर खुशी मिल रही है।

Subscribe us on whatsapp