Advertising

मधुबनी जिले में प्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान अध्यापक, स्नातक कला प्रशिक्षित एवं स्नातक विज्ञान प्रशिक्षित कोटि में प्रोन्नति के उपरांत विभागीय दिशा-निर्देश एवं नियमों की अनदेखी कर मनमाने तरीके से पदस्थापन किए जाने के मामले को गंभीरता से लेते हुए आरडीडीई ने मधुबनी जिले के डीईओ तथा डीपीओ-स्थापना को कड़ा पत्र जारी किया है। यहां यह उल्लेखनीय है कि डीएम ने प्रोन्नति के बाद शिक्षकों को विद्यालयों में मनमाने तरीके से पदस्थापित किए जाने की शिकायत मिलने के उपरांत डीपीओ-स्थापना द्वारा निर्गत पदस्थापन आदेश को तत्काल प्रभाव से ज्ञापांक-75, दिनांक-10.01.2018 के तहत आदेश जारी कर रद कर दिया था। साथ ही प्रोन्नति के बाद शिक्षकों के पदस्थापन में अनियमितता संबंधी इस मामले की जांच हेतु डीडीसी धर्मेन्द्र कुमार की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय जांच कमेटी का भी गठन कर दिया था। जांच कमेटी में अपर समाहर्ता दुर्गानंद झा एवं स्थापना उप समाहर्ता सत्य प्रकाश को शामिल किया गया है। इस मामले में डीएम ने जिला शिक्षा पदाधिकारी, मधुबनी से स्पष्टीकरण की भी मांग चुके हैं। इस आदेश की प्रतिलिपि डीएम ने क्षेत्रीय शिक्षा उप निदेशक, दरभंगा प्रमंडल, दरभंगा को भी प्रेषित किया था। वहीं प्रोन्नति के बाद शिक्षकों के पदस्थापन में की गई गड़बड़ी तथा इस मामले में डीएम द्वारा ज्ञापांक-75, दिनांक-10.01.2018 के तहत जारी आदेश का उल्लेख करते हुए जिला पार्षद सह जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव तथा मधेपुरा के संगठन प्रभारी मो. जहांगीर अली ने आरडीडीई, दरभंगा को ज्ञापन सौंपकर आवश्यक कार्रवाई करने का अनुरोध किया था। इस ज्ञापन की प्रति उन्होंने मुख्यमंत्री, शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव एवं प्राथमिक शिक्षा निदेशक को भी प्रेषित किया था। इस ज्ञापन में मो. जहांगीर अली ने उल्लेख किया था कि प्रोन्नति के बाद शिक्षकों के प्राथमिक एवं मध्य विद्यालयों में पदस्थापित करने में विभागीय निर्देशों की धज्जियां उड़ाई गई है। जिस कारण डीएम ने पदस्थापन आदेश को रद कर दिया है। लिहाजा प्रोन्नत शिक्षकों के पदस्थापन में अनियमितता बरतने वाले दोषी पदाधिकारियों एवं कर्मियों पर कार्रवाई की जाए। साथ ही प्रोन्नति प्राप्त शिक्षकों को नियमानुसार विभिन्न विद्यालयों में पदस्थापित की जाए। उक्त आलोक में

Posted by Amardeep Jha Gautam on Saturday, 13 January 2018

आरडीडीई ने डीईओ एवं डीपीओ-स्थापना को पत्र जारी कर सख्त निर्देश दिया है कि डीएम द्वारा निर्गत पत्र में उल्लेखित ¨बदुओं पर किए गए कारणपृच्छा के संबंध में स्थिति स्पष्ट करते हुए निर्धारित समय-सीमा के अंदर अनिवार्य रुप से स्पष्टीकरण समर्पित करना सुनिश्चित करें। साथ ही डीएम के द्वारा निर्गत पत्र का नियमानुकूल अनुपालन सुनिश्चित करते हुए उन्हें (आरडीडीई) भी अनुपालन प्रतिवेदन से अवगत कराएं। आरडीडीई ने उक्त पत्र की प्रतिलिपि जिला पार्षद मो. जहांगीर अली एवं अजा-जजा कर्मचारी संगठन के जिलाध्यक्ष बलराम पासवान को भी प्रेषित किया है।

Subscribe us on whatsapp