न्यूज़ बिहार डेस्क : (भागलपुर/बेगूसराय) : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को ही सूबे के सभी पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिया था कि थानों को सुधारिए ।बगैर थाना सुधरे, कुछ भी नहीं होगा। नीतीश कुमार के निर्देश के 24 घंटे के भीतर भागलपुर-मुंगेर के DIG विकास वैभव ने बेगूसराय के बखरी थानाध्यक्ष समेत दो पुलिस अधिकारियों पर गाज गिरा दी है। ये दोनों गिरफ्तार आरोपी को हाजत में नहीं पीटने के लिए 1 लाख रूपये की मांग कर रहे थे। मांग से जुडी बातचीत को रिकॉर्ड कर लिया गया था।बाद में यह वायरल हुआ और DIG विकास वैभव के संज्ञान में आ गया।

विकास वैभव वैसे भी नो नॉनसेंस वाले अधिकारी माने जाते हैं। सो, ऑडियो उन्होंने जैसे ही सुना, तुरंत जांच कराई।बेगूसराय के SP को पूरे मामले की जानकारी दी गई. इसके साथ ही तत्काल प्रभाव से बखरी के थानाध्यक्ष त्रिलोकी मिश्रा और ASI टी एन यादव का थाना से बोरिया-बिस्तर बंधवा दिया गया। दोनों को पुलिस लाइन में पहुँचने को कहा गया है।एसपी, बेगूसराय को निर्देशित किया गया है कि वे अपने स्तर से मामले को जांचेंगे।

थर्ड डिग्री रोकने के बदले एक लाख रूपये की मांग से जुड़े दो ऑडियो टेप वायरल हुए थे। इसमें स्पष्ट तौर पर पता चला कि बेगूसराय के बखरी थाने की पुलिस ने शराब बेचने के मामले में राकेश कुमार नामक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।इसके बाद पुलिस ने अपना खेला शुरू किया। गिरफ्तार राकेश की पैरवी रोहित सिंह नामक व्यक्ति कर रहा था। पुलिस हाजत में गिरफ्तार रोहित को न पीटने के लिए 1 लाख रूपये की मांग कर रही थी। इसके बाद रोहित ने अपने दूत को भेजा और पुलिसवालों की करतूत को बेनकाब करने के लिए पूरी बातचीत को रिकॉर्ड कर लिया।

Subscribe us on whatsapp