न्यूज़ बिहार डेस्क| लालू यादव के बाद अब शरद यादव ने भी सृजन घोटाले पर नीतीश के प्रति हमलावर रुख अपना लिया है. उन्होंने कहा कि सृजन घोटाले की जांच सुप्रीम कोर्ट के जज की निगरानी में होनी चाहिए. यह घोटाला नहीं, महाघोटाला है.

इससे पहले रविवार को बिहार के भागलपुर जिले में लालू प्रसाद यादव ने सृजन घोटाले के खिलाफ जनसभा की. इसमें उन्होंने कहा था कि सृजन के खिलाफ हर जिले में आरजेडी आंदोलन करने जा रही है. जेल भरो आंदोलन के लिए आरजेडी कार्यकर्ता तैयार हैं.

तेजप्रताप यादव ने भी लालू यादव के अंदाज में कहा कि सबौर में सृजन कार्यालय के बाहर धरना देंगे. सरकार हमें जेल भेजेगी. पूरे बिहार का जेल कम पड़ जाएगा, उन्हें नया जेल बनाना पड़ेगा.

इसमें उनके दोनों बेटे तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव भी शामिल हुए थे. यहां तेजप्रताप ने जेडीयू के प्रवक्ता नीरज कुमार को महिषासुर कहा था.

इसपर नीरज कुमार ने कहा कि पहले तो लालू परिवार नीतीश फोबिया का शिकार था, अब नीरज फोबिया का भी शिकार हो गया है. लालू परिवार को मर्यादा का पालन करना चाहिए नहीं तो हम उनका पीछा नहीं छोड़ेंगे.

लालू प्रसाद और उनका परिवार हताशा में है. नीतीश कुमार पर कोई आरोप लगाने से पहले उन्हें अपने दाग देख लेने चाहिए. शरद यादव तेजस्वी और तेजप्रताप के नए अंकल हैं.