सोनपुर मेला में थियेटर फिर से होंगे गुलज़ार, नर्तकियों के आगे झुका प्रशासन। काफी दिनों से सोनपुर मेले में थिएटर को लेकर चल रहे विवाद, विरोध प्रदर्शन के बाद प्रशासन झुका कुछ शर्तों के साथ लाइसेंस देने को तैयार। पिछले सप्ताह जिला के एसपी ने सोनपुर मेला में थियेटर पर रोक लगा दिया था। उसके बाद इसको लेकर थियेटर मालिकों और प्रशासन में काफी तनातनी चल रही थी।

आपको बता दें कि थियेटर पर रोक के बाद नर्तकियों ने मोर्चा संभाला और अपने रोजी रोटी से जुड़े इस व्यवसाय को चालू करने का दबाव बनाया। उसके बाद जिला प्रशासन और थियेटर मालिकों को बीच हुई वार्ता के बाद प्रशासन ने थियेटर चलाने का सशर्त लाइसेंस देने का फैसला किया। मामले की गंभीरता को देखते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री और स्थानीय सांसद राजीव प्रताप रूडी को भी पहल करनी पड़ी। गुरुवार शाम जिला प्रशासन ने स्थानीय लोगों के प्रतिनिधियों, थियेटर मालिकों और मेला में आये व्यवसायियों के साथ लंबी बैठक के बाद लाइसेंस जारी करने को लेकर सहमति दे दी।


बैठक के बाद सारण के एसपी हरिकिशोर राय ने बताया कि थिएटर संचालकों को इस शर्त पर लाइसेंस जारी किए जाएंगे कि किसी भी हाल में अश्लीलता न हो। थियेटर के माध्यम से किसी बजी प्रकार की अश्लीलता बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। संचालकों को निर्देश दिया गया है कि वे इसका प्रचार-प्रसार नहीं करेंगे। इसके साथ और भी कई शर्तें थियेटर संचालन के क्रम में लागू रहेंगी।

नर्तकियों द्वारा जिला प्रशासन और एसपी के खिलाफ जम कर हंगामा किये जाने के बाद मामले को प्रशासन ने बातचीत के बाद हल निकाला। प्रशासनकी शर्तों में थियेटर के बाहर रात्रि 10 बजे के बाद ध्वनि बाहर न आये इसकी भी हिदायत दी गई है। रात्रि 10 बजे के बाद से ध्वनि प्रदूषण नियमों के तहत यह दंडनीय होगा। इसके मद्देनज़र थिएटर के बाहर आवाज नहीं जाने का सख्त निर्देश दिया गया है। उसके बाद जब दिन भर मेला बंद होने से संबंधित प्रश्न एसपी से पूछा गया तो उन्होंने इंकार करते हुए कहा कि प्रशासन ने ऐसा कोई भी निर्देश जारी नही किया है न ही दिन में दुकानें बंद कराया गया है।

Subscribe us on whatsapp