आरा : वीरबांकुरे कुंवर सिंह की धरती भोजपुर के जगदीशपुर पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को वीरबांकुरे को नमन करते हुए आजादी की लड़ाई में उनके योगदान और जान तक न्योछावर कर देने की चर्चा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि 1857 की क्रांति के अमर योद्धा को जो महत्व पूरे देश में मिलना चाहिए, वह नहीं मिला। इसलिए हर बिहारी का यह कर्तव्य बनता है कि वे कुंवर सिंह की ख्याति को देश स्तर पर पहुंचाएं। विजयोत्सव का यह 160वां साल है। इसलिए 23 से 25 अप्रैल तक आयोजित होने वाला राजकीय समारोह इस साल विशेष रूप से मनायेंगे। इसकी चर्चा पूरे देश में हो, यह कोशिश की जायेगी।

वे अपनी विकास समीक्षा यात्रा के चौथे चरण में रोहतास से दोपहर बाद करीब डेढ़ बजे जगदीशपुर के दावां गांव पहुंचे। उन्होंने सर्वप्रथम बिहार के पहले हाईटेक पंचायत सरकार भवन का मुआयना किया। यहां की व्यवस्था देख खुश हुए। स्थानीय मुखिया सुषुमलता ने गांव की ऐतिहासिकता के बारे में उन्हें बताया।अपने आधे घंटे के भाषण में मुख्यमंत्री ने बिहार में चलाये जा रहे सामाजिक सुधार अभियानों पर विशेष रूप से बल दिया। आगामी 21 जनवरी को दहेज प्रथा व बाल विवाह के खिलाफ आयोजित मानव शृंखला में शामिल होने का संकल्प लोगों से हाथ उठवाकर किया। उन्होंने कहा कि उस दिन एक दूसरे का हाथ थाम लीजिए, बिहार ही नहीं बाहर तक संदेश जायेगा कि बिहार बाल विवाह व दहेज प्रथा जैसी सामाजिक बुराइयों का बर्दाश्त नहीं करेगा।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भोजपुर को शनिवार को करीब ढाई अरब की योजनाओं की सौगात दी। जिले के जगदीशपुर ब्लॉक के दावां गांव में आयोजित समारोह में रिमोट दबा करीब 26 करोड़ की लागत से पूरी की गईं 23 योजनाओं के उद्घाटन के साथ ही 222 करोड़ की 236 योजनाओं का शिलान्यास किया। योजनाओं पर गौर करें तो शिक्षा और सात निश्चय पर ज्यादा राशि खर्च की जानी है।

जिला मुख्यालय आरा को एक बार फिर कमिश्नरी बनाने की मांग सीएम से उठा। आरा विधायक अनवर आलम ने यह मांग दुहराई। वैसे गाहे-बगाहे यह मांग उठती रही है। अब देखना है कि कमिश्नरी की मांग कब तक पूरी होती है।

मुख्यमंत्री भोजपुर आये तो सड़क मार्ग से, लेकिन यहां से हवाई मार्ग से गये। मुख्यमंत्री का भाषण शुरू होने के पहले ही यहां हेलीकॉप्टर ने लैंड किया। इसे देखने के लिए ग्रामीणों में कौतूहल रहा। ग्रामीणों का कहना था कि गांव में इसके पहले कभी हेलीकॉप्टर नहीं उतरा था। हम लोगो और हमारे बच्चे हेलीकॉप्टर देख बहुत खुश हुए।

वही शराब बंदी और बाल विवाह दहेज प्रथा को रोकने में महिलाओं पर पूरा भरोसा कर रहे है। बिहार के मुख्यमंत्री जी उन्होंने कहा की बिहार के महिला चाहे तो ये शराब बंदी और दहेज प्रथा रोकने में मुमकिन हो सकता है। वही इनके आज की सभा में बस जीविका दीदी महिलाएं ही दिख रही थी ग्रिमिण महिला को तो 20% से 25% ही रहा। वही सूत्रों का कहना था की बक्सर के घटना को ले ग्रमीण महिला को नही आने की सलाह दिया गया

Subscribe us on whatsapp