पटना। ‘किशन-कन्हैया’ के अवतार में नजर आ चुके लालू प्रसाद के बेटे और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव इन दिनों धार्मिक कार्यों में व्यस्त दिख रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि वह धार्मिक कर्मकांडों में काफी भरोसा रखते हैं। हाल ही में ज्योतिषी के कहने पर उन्होंने अपने आधिकारिक बंगले के प्रवेश को बदला था और ‘दुश्मन मारन जाप’ करवाया था। अब तेज प्रताप गुरुवार को वृंदावन के लिए निकले हैं। वह वहां भगवान कृष्ण की विशेष पूजा करेंगे।

लालू के परिवार से जुड़े सूत्रों ने बताया कि पटना से वृंदावन की अपनी 950 किलोमीटर की यात्रा में वह निर्जला व्रत रखेंगे। वह वृंदावन में 3 दिन तक रुकेंगे। सूत्रों ने बताया कि तेज प्रताप के पंडित ने उन्हें राजनीतिक करियर में आगे बढ़ने के लिए निर्जला व्रत रखते हुए बांके बिहारी मंदिर में विशेष पूजा करने को कहा है। तेज प्रताप 11 जून को वापस आएंगे, तब लालू प्रसाद का 69वां जन्मदिन मनाया जाएगा।

सूत्रों के मुताबिक, तेज से अनुरोध किया गया था कि वह लालू के जन्मदिन को देखते हुए अपनी यात्रा टाल दें, लेकिन उन्होंने यात्रा पर जाने का जोर देते हुए कहा कि वह 10 जून तक वापस आ जाएंगे। तेज सुबह करीब 5.10 बजे वृंदावन के लिए निकले। इस दौरान 2 एसी बस वृंदावन के लिए रवाना हुए हैं जिसमें उनके 10 करीबी मित्र और संगठन धर्मनिरपेक्ष सेवा संघ तथा आरजेडी युवा इकाई के सदस्य शामिल हैं।

आरजेडी युवा इकाई के एक सदस्य ने बताया कि तेज को पंडित ने ‘ओम कृष्णाय नमः’, ‘ओम वासुदेवाय नमः’ का जाप करने का सुझाव दिया है और साथ ही उनके काफिले में किसी को भी मांसाहार का सेवन न करने को कहा गया है। तेज का काफिला सासाराम और वाराणसी होते हुए दोपहर 3 बजे इलाहाबाद पहुंचा। तेज ने इस दौरान कुछ नहीं खाया। तेज अपने बस में अकेले हैं। यह बस 2015 विधानसभा चुनाव के दौरान उनके पिता के लिए तैयार की गई थी। इस बस में कई तरह की आधुनिक सुविधाएं है। सूत्रों ने बताया कि पंडित के कहने पर तेज की बस में किसी को घुसने की इजाजत नहीं दी गई है।

तेज कृष्ण भक्त माने जाते हैं और पिछले दिनों बांसुरी बजाते और गायों के बीच कृष्ण के भेष में उनकी तस्वीर भी काफी वायरल हुई थी। यहां तक कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पटना में प्रकाशोत्सव के दौरान अपने संबोधन में तेज के कृष्ण-अवतार का जिक्र करते हुए कहा था- ‘आप तो किशन कन्हैया बन गए हैं।’

Subscribe us on whatsapp