न्यूज़ बिहार डेस्क,  (मुकेश पाण्डे ) बिहार कांग्रेस में टूट की अटकलों के बीच भागलपुर विधाय अजीत शर्मा के बाद बक्सर सदर विधाय संजय तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी ने भी मोर्चा खोल दिया है। मुन्ना तिवारी ने लालू यादव पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि बिहार कांग्रेस आलाकमान को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है। जो लोग उनको बदनाम करने में लगे हैं वो सीधा सीधा कांग्रेस को कमजोर कर रहे हैं। बिहार में काफी समय के बाद कांग्रेस को सम्मान दिलाने में पूरा श्रेय उन्हें और उनकी टीम को जाता है। केंद्रीय नेतृत्व भी इस बात को जानता और मानता है। महागठबंधन वक्त की जरूरत के अनुसार तीनों दलों के साझा प्रयास से हुआ। प्रदेश अध्यक्ष ने तब भी एक सम्मानजनक समझौता ही नही किया बल्कि परिणाम भी दिया जो सामने है।


जहां तक सभी जानते है कुछ को छोड़ कर की अध्यक्ष ने कई बार मंत्री पद छोड़ संगठन के लिए काम करने का आग्रह केंद्रीय नेतृत्व से किया था। अगर कोई इन्हें श्रेय नही देना चाहता तो कांग्रेस को दे दे। पर  लालू प्रसाद को कुछ लोग बेकार का श्रेय देने में जुटे हैं। यही नही फालतू का गुणगान भी कर रहे हैं। जो व्यक्ति खुद ही चुनाव लड़ने से अयोग्य करार दिया गया हो वो क्या किसी को जिताएगा। विधान सभा चुनाव में जीत इसलिए हुई की महागठबंधन का चेहरा नीतीश कुमार, राहुल गांधी व सोनिया गांधी थी। 

विधायक तिवारी ने लालू प्रसाद पर आरोप लगाया कि वह सीटों के बंटवारे के नाम पर हमेशा कांग्रेस के साथ भेदभाव करने का काम करते आये हैं। सिर्फ अपनी राजनीति चमकाने के लिए वो किसी भी हद तक जा सकते हैं। इशारों में विधायक ने यह भी कहा कि लालू प्रसाद यादव कांग्रेस के हिमायती नहीं हैं। वो अपने बेटों की राजनीति में मजबूत करने में लगे हैं। उनके दल के लोगों में इस बात।को लेकर अंदर ही अंदर काफी नाराजगी है। कांग्रेस एक राष्ट्रीय दल है जिसका अपना एक मजबूत आधार है। ऐसे में राजद से किनारा करने फैसला ही पार्टी के हित मे होगा।  कांग्रेस नेताओं को तेजस्वी और तेज प्रताप जिंदाबाद का नारा लगाने ग़वारा नही है।  लालू ने पूरे देश मे अपनी, अपने परिवार की और ख़ाश कार बिहार की छवी को धूमिल किया है। आज उनके कर्मों के कारण ही महागठबंधन टूटा है। किसी ने ठीक ही कहा है कि लालू प्रसाद बिना घोटाला नहीं रह सकते, इस वृति में उन्होंने पूरे परिवार को शामिल कर लिया है। अभी से भी एक सपना मान कर लालू प्रसाद से किनारा कर लिया जाए तो कांग्रेस नम्बर वन बन कर सामने आएगी।