ये बात है झारखंड के लातेहार की जहाँ मनिका थाना क्षेत्र के बिचलिदाग जंगल में बुधवार को सीआरपीएफ 11वीं बटालियन की टीम सर्च ऑपरेशन चला रही थी। अचानक जवानों की एक बड़ी सी चट्‌टान के नीचे नजर पड़ी तो सभी अलर्ट हो गए। वहां एक प्लास्टिक पड़ा था। इसके बाद रस्सी के सहारे प्लास्टिक को हटा अंदर पड़े सामान को बाहर निकाला गया तो सभी चौके गए। मौके से भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद किया गया।

-जवानों ने सावधानी से एक-एक कर सारे विस्फोटक बाहर निकाल लिया। इसमें 3 किलो के दो केन बम, 1 किलो के तीन केन बम, 500 ग्राम के पांच केन बम, सौ मीटर कोटेक्स वायर मिला।

-साथ ही जवानों ने चट्‌टान के नीचे बने बंकर से 7.62 एमएम के तीन देसी कट्ठा, पांच देसी हैंड बम, चार किलो एक्सप्लोसिव, दो नक्सली वर्दी, दो इलेक्ट्रॉनिक्स डेटोनेटर, एक मोबाइल, दो बेल्ट, और 25 नक्सली साहित्य बरामद किया।

-पुलिस ने विस्फोटकों को बम निरोधक दस्ते की मदद से डिफ्यूज कर दिया। सर्च ऑपरेशन के दौरान जवानों का नेतृत्व सीआरपीएफ के द्वितीय कमान अधिकारी अश्वनी परमार कर रहे थे।

-सीआरपीएफ को सूचना मिली थी कि नक्सलियों ने पुलिस को नुकसान पहुंचाने की नियत से भारी मात्रा में विस्फोटक समेत अन्य सामान यहां रखा है।

-इसी सूचना पर सीआरपीएफ ने मनिका थाना पुलिस के सहयोग से उक्त जंगल में सर्च ऑपरेशन चलाया। सीआरपीएफ इसे बड़ी कामयाबी मान रही है।

-अश्वनी परमार ने कहा कि पुलिस को नुकसान पहुंचाने की नियत एवं विकास योजनाओं में पुल-पुलिया को विस्फोट कर उड़ाने की मंशा से नक्सलियों ने इसे छिपा कर रखा था।

-सीआरपीएफ ने बरामद बमों को मौके पर ही डिफ्यूज कर दिया है। मौके पर सहायक कमांडेंट अमित सचान समेत सीआरपीएफ के कई पदाधिकारी व जवान मौजूद थे।

Subscribe us on whatsapp