देश के बहुत सारे राज्यों में चोटी काटने की घटना ने लोगों के बीच दहशत का माहौल कायम कर दिया है।दिल्ली और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में विभिन्न स्थानों से संदेहास्पद परिस्थितियों में महिलाओं की चोटियां काटे जाने के मामले सामने आने से लोगों में घबहराहट फैल गई है। दिल्ली के कई हिस्सों से चोटी कटने की ताजा घटनाओं के सामने आने के मद्देनजर पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वे अफवाह फैलाने वाली गतिविधियों में शामिल नहीं हों।

पुलिस ने बताया कि पश्चिमी दिल्ली के मायापुरी में गुरुवार सुबह एक महिला और उसकी बेटी की चोटी काट दी गई लेकिन उन्होंने पुलिस में औपचारिक शिकायत दर्ज नहीं कराई। दक्षिण पश्चिम दिल्ली के पालम में भी एक महिला ने दो बार उसकी चोटी काटे जाने का दावा किया है। रोहिणी में भी एक महिला की चोटी कटी लेकिन उसने पुलिस में लिखित शिकायत नहीं की।

वहीं उत्तर प्रदेश के शिकोहाबाद के क्षेत्राधिकारी संजय वर्मा ने बताया कि शिकोहाबाद थाना क्षेत्र के आमरी गांव में पिंकी (15) के परिवार के सदस्यों ने दावा किया है कि पिंकी कल रात करीब 11 बजे सो रही थी तभी उसकी चीख सुनकर परिवार वाले उसके पास पहुंचे और उन्होंने पाया कि उसकी चोटी कटी हुई थी। उन्होंने बताया कि जसराना क्षेत्र में हुई ऐसी ही कथित घटना में शिवानी (16) नाम की लडक़ी की मां ने दावा किया कि कल रात किसी ने उसके घर का दरवाजा खटखटाया। जब उसने दरवाजे पर जाकर देखा तो वहां कोई नहीं था।

इसी बीच, अन्दर से शिवानी के चीखने की आवाज सुनायी दी। महिला ने अन्दर जाकर देखा तो अपनी बच्ची के बाल कटे पाये।वर्मा ने बताया कि वह शिकायत मिलने पर वह आमरी गांव गए थे। सूचना तो सही पायी गयी, लेकिन बच्ची की चोटी कैसे कटी, इस बारे में पक्के तौर पर कोई बात नहीं कही जा सकती।उन्होंने बताया कि इसकी जांच माधवगंज पुलिस चौकी प्रभारी को सौंपी गई है।

लोगों को समझाया गया है कि वे अफवाहों पर ध्यान ना दें। उधर आगरा के दयालबाग इलाके में रहने वाले एक पुजारी की पत्नी ने दावा किया कि गुरुवार तडक़े किसी ने उनकी चोटी काट दी। हालांकि परिवार के लोगों ने पुलिस में इस मामले की शिकायत कराने से इनकार कर दिया। वहीं हापुड़ में कोतवाली पिलखुवा क्षेत्र प्रभारी पंकल लवानियां ने बताया कि जिले के बझैड़ा खुर्द गांव में एक विवाहित महिला की उस समय चोटी काटी गई, जब वह सो रही थी। मामले की जांच की जा रही है।