बिहार में पिछले कुछ दिनों से चल रहा राजनीतिक संकट खत्म नहीं हो रहा है। मंगलवार को हुई जेडीयू की बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि भ्रष्टाचार पर उन्होंने हमेशा जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है। जेडीयू ने तेजस्वी यादव के मुद्दे पर राजद को चार दिन का समय दिया था। 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज 11 बजे कैबिनेट बैठक बुलाई। माना जा रहा है कि इस बैठक में सीएम नीतीश कुमार बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के खिलाफ कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं।

गौरतलब है कि मंगलवार को नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव पर सीबीआई रेड के बाद पहली बार मुंह खोलते हुए कहा कि उनका करप्शन पर जीरो टॉलरंस की नीति से कोई समझौता नहीं होगा उन्होंने तेजस्वी को तथ्यों से अपनी बात रखने को कहा।

उधर बदलते घटनाक्रम में मंगलवार देर शाम कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने नीतीश कुमार से बात की। सूत्रों के मुताबित, अगले चार-पांच दिनों में तेजस्वी यादव पर कोई फैसला लिया जा सकता है। हालांकि आरजेडी ने फिर दोहराया कि इस्तीफे का कोई सवाल नहीं है
कल हुई बैठक में जेडीयू ने लालू प्रसाद की पार्टी को चार दिन का अल्टीमेटम दिया था। जेडीयू ने कहा कि अगर चार दिन के भीतर लालू यादव तेजस्वी के इस्तीफे पर कोई फैसला नहीं कर पाते तो फिर जेडीयू कोई बड़ा ऐलान कर सकती है। बैठक में नीतिश कुमार ने साफ-साफ कह दिया था कि ये मामला दूसरी पार्टी यानी आरजेडी से जुड़ा है, ऐसे में तेजस्वी के इस्तीफे पर आरजेडी को ही फैसला लेना होगा।
बैठक के बाद जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने बताया कि पार्टी तेजस्वी यादव से आरोपों पर सफाई चाहती है। उन्होंने कहा कि हम गठबंधन धर्म का पालन करेंगे, मगर नीतीश कुमार भ्रष्टाचार पर जीरो टोलरेंस की नीति पर काम करते हैं। उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव सार्वजनिक तौर पर तथ्य रखें और अपने ऊपर लगे आरोपों पर सफाई दें।

दरअसल, बिहार सरकार में सहयोगी आरजेडी के प्रमुख लालू यादव और डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के यहां सीबीआई छापों के बाद ये बड़ी बैठक हुई है। सबकी निगाहें महागठबंधन के भविष्य पर टिकी हुई है।

Subscribe us on whatsapp